आज तक सुलझा रहा हूँ!

जो उलझी थी कभी आदम के हाथों,
वो गुत्थी आज तक सुलझा रहा हूँ|

फ़िराक़ गोरखपुरी