Categories
Uncategorized

जो पुल बनाएँगे – अज्ञेय

आज एक छोटी सी कविता शेयर कर रहा हूँ, अज्ञेय जी की यह कविता छोटी सी है परंतु बड़ी बात कहती है| अज्ञेय जी हिन्दी साहित्य का ऐसा युगांतरकारी व्यक्तित्व थे, वे भारत में प्रयोगवाद और नई कविता के प्रणेता रहे| हाँ वे विशेष रूप से कम्युनिस्टों के निशाने पर रहते थे| कविता, कहानी, उपन्यास, यात्रा-वृतांत, निबंध आदि हर क्षेत्र में अज्ञेय जी ने अपनी अमिट छाप छोड़ी है|

लीजिए प्रस्तुत है अज्ञेय जी की यह कविता-

 

 

जो पुल बनाएँगे
वे अनिवार्यतः
पीछे रह जाएँगे।

 

सेनाएँ हो जाएँगी पार
मारे जाएँगे रावण
जयी होंगे राम;
जो निर्माता रहे
इतिहास में बंदर कहलाएँगे।

 

आज के लिए इतना ही,
नमस्कार|

******

Categories
Uncategorized

हरी कलगी बाजरे की – अज्ञेय

आज हिंदी साहित्य में प्रयोगवाद के प्रणेता और नई कविता के सूत्रधार स्व. सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन ‘अज्ञेय’ जी की एक कविता शेयर कर रहा हूँ। इस कविता में भी उन्होंने इस बात पर बल दिया है कि अब कविता में नए प्रतीकों की खोज की जानी चाहिए क्योंकि पुराने प्रतीकों का उपयोग होते-होते वे घिस गए हैं।

अज्ञेय जी एक महान कवि, कहानीकार और उपन्यासकार थे और प्रयोगवाद के प्रणेता थे, उन्होंने भाषा में अनेक प्रयोग किए और कविता को एक नया स्वरूप प्रदान किया। समय की आवश्यकताओं को देखते हुए उन्होंने भाषा के छायावादी मायाजाल को तोड़ते हुए कविता की नई भाषा गढ़ने की पहल की। वैसे ये वास्तविकता है कि साहित्य के ये सभी आंदोलन यूरोप में पहले ही आ चुके थे और भारत में बाद में आए।

प्रस्तुत है अज्ञेय जी की यह कविता-

 

 

 

हरी कलगी बाजरे की

 

हरी बिछली घास।
दोलती कलगी छरहरे बाजरे की।

 

अगर मैं तुम को ललाती सांझ के नभ की अकेली तारिका
अब नहीं कहता,
या शरद के भोर की नीहार – न्हायी कुंई,
टटकी कली चम्पे की, वगैरह, तो
नहीं कारण कि मेरा हृदय उथला या कि सूना है
या कि मेरा प्यार मैला है।

 

बल्कि केवल यही : ये उपमान मैले हो गये हैं।
देवता इन प्रतीकों के कर गये हैं कूच।

 

कभी बासन अधिक घिसने से मुलम्मा छूट जाता है।
मगर क्या तुम नहीं पहचान पाओगी :
तुम्हारे रूप के-तुम हो, निकट हो, इसी जादू के-
निजी किसी सहज, गहरे बोध से, किस प्यार से मैं कह रहा हूं-
अगर मैं यह कहूं-

 

बिछली घास हो तुम लहलहाती हवा मे कलगी छरहरे बाजरे की ?

 

आज हम शहरातियों को
पालतु मालंच पर संवरी जुहि के फ़ूल से
सृष्टि के विस्तार का- ऐश्वर्य का- औदार्य का-
कहीं सच्चा, कहीं प्यारा एक प्रतीक
बिछली घास है,
या शरद की सांझ के सूने गगन की पीठिका पर दोलती कलगी
अकेली
बाजरे की।

 

और सचमुच, इन्हें जब-जब देखता हूं
यह खुला वीरान संसृति का घना हो सिमट आता है-
और मैं एकान्त होता हूं समर्पित

 

शब्द जादू हैं-
मगर क्या समर्पण कुछ नहीं है ?

आज के लिए इतना ही,
नमस्कार।

***

Categories
Uncategorized

नग़मों की खिलती कलियां चुनने वाले!

आज फिर से एक पुरानी ब्लॉग पोस्ट शेयर कर रहा हूँ-

अज्ञेय जी की एक कविता है-‘नए कवि से’, काफी लंबी कविता है, उसका कुछ हिस्सा यहाँ उद्धृत कर रहा हूँ-

 

आ, तू आ, हाँ, आ,
मेरे पैरों की छाप-छाप पर रखता पैर,
मिटाता उसे, मुझे मुँह भर-भर गाली देता-
आ, तू आ।

 

तेरा कहना है ठीक: जिधर मैं चला
नहीं वह पथ था:
मेरा आग्रह भी नहीं रहा मैं चलूँ उसी पर
सदा जिसे पथ कहा गया, जो
इतने-इतने पैरों द्वारा रौंदा जाता रहा कि उस पर
कोई छाप नहीं पहचानी जा सकती थी।

 

मेरी खोज नहीं थी उस मिट्टी की
जिस को जब चाहूँ मैं रौंदूँ: मेरी आँखें
उलझी थीं उस तेजोमय प्रभा-पुंज से
जिस से झरता कण-कण उस मिट्टी को
कर देता था कभी स्वर्ण तो कभी शस्य,
कभी जीव तो कभी जीव्य,
अनुक्षण नव-नव अंकुर-स्फोटित, नव-रूपायित।

 

मैं कभी न बन सका करुण, सदा
करुणा के उस अजस्र सोते की ओर दौड़ता रहा जहाँ से
सब कुछ होता जाता था प्रतिपल——

कविता का इतना ही भाग यहाँ दूंगा अन्यथा बहुत ज्यादा हो जाएगा। अज्ञेय जी कवि थे, महान रचनाकार थे, सो वे अपने बाद के रचनाकारों को संबोधित कर रहे थे। कह रहे थे कि सृजन के इस पथ पर, नई राहों के अंवेषी के रूप में, उनसे जो बन पड़ा उन्होंने किया, अब नए रचनाकार की बारी है कि वह अपने झंडे गाड़े, अपनी रचनाधर्मिता का लोहा मनवाए।

साहित्य का क्षेत्र हो, पत्रकारिता का या कोई भी क्रिएटिव फील्ड हो, हर क्षेत्र में कितने महारथी आए, उन्होंने अपने कृतित्व से लोगों को चमत्कृत किया और फिर पताका नए लोगों के हाथों में सौंपकर आगे बढ़ गए। आज खयाल आया कि रचनाधर्मिता की इस अनंत यात्रा को सलाम करूं, क्योंकि जो ऊंचाई एक तारीख में एक मिसाल होती है वही कभी बहुत छोटी लगने लगती है, ऐसे में कुछ लोग हैं जो हमेशा नए लोगों के लिए चुनौती और प्रेरणा बने रहते हैं।

हालांकि एक क्षेत्र ऐसा भी है- राजनीति का, जहाँ बहुत से लोग पूरी तरह अपनी चमक खो देते हैं-

जो आज रौनक-ए-महफिल दिखाई देता है,
नए लिबास में क़ातिल दिखाई देता है।

खैर आज की चर्चा का विषय यह नहीं है। आज तो इस चर्चा का समापन साहिर लुधियानवी जी की इन पंक्तियों से करना सर्वथा उपयुक्त होगा-

कल और आएंगे नग़मों की खिलती कलियां चुनने वाले,
मुझसे बेहतर कहने वाले, तुमसे बेहतर सुनने वाले,
कल कोई मुझको याद करे, क्यों कोई मुझको याद करे,
मसरूफ ज़माना मेरे लिए, क्यों वक्त अपना बर्बाद करे।
मैं पल दो पल का शायर हूँ——

कुल मिलाकर शायरों, कलाकारों की यह परंपरा, जिसमें भले ही कोई किसी समय विशेष कालखंड में ही सृजनरत रहा हो, लेकिन यह निरंतर चलने वाली परंपरा हमारी महान धरोहर है।

इस परंपरा को प्रणाम करते हुए आज यहीं समापन करते हैं।
नमस्कार।

****************