हर इन्सान सिकंदर क्यूँ है!

अपना अंजाम तो मालूम है सबको फिर भी,
अपनी नज़रों में हर इन्सान सिकंदर क्यूँ है|

सुदर्शन फाक़िर