कोई सहर दे या अल्लाह!

सूरज सी इक चीज़ तो हम सब देख चुके,
सचमुच की अब कोई सहर दे या अल्लाह|

क़तील शिफ़ाई