इस तरह का तमाशा किया न जाए!

लहजा बना के बात करें उनके सामने,
हमसे तो इस तरह का तमाशा किया न जाए|

जाँ निसार अख़्तर