बिल्डिंगें बांहों की सूरत!

नगर की बिल्डिंगें बांहों की सूरत,
बशर टूटी हुई अंगड़ाइयां हैं|

सूर्यभानु गुप्त