उसे मेरा कर दे!

है इख़्तियार में तेरे तो मोजेज़ा कर दे,
वो शख़्स मेरा नहीं है उसे मेरा कर दे|

राना सहरी