उसने सताया भी नहीं!

बेरुख़ी इससे बड़ी और भला क्या होगी,
एक मुद्दत से हमें उसने सताया भी नहीं|

क़तील शिफ़ाई