छान के फटक के मुझे!

मैं देर रात गए जब भी घर पहुँचता हूँ,
वो देखती है बहुत छान के फटक के मुझे|

राहत इन्दौरी