इस पे दिलों को तौले कौन!

सब डरते हैं, आज हवस के इस सहरा में बोले कौन,
इश्क तराजू तो है, लेकिन, इस पे दिलों को तौले कौन|

राही मासूम रज़ा