इसी हीले बहाने से मिले!

कभी लिखवाने गए ख़त कभी पढ़वाने गए,
हम हसीनों से इसी हीले बहाने से मिले|

कैफ़ भोपाली