ख़ज़ाना यहीं से निकलेगा!

इसी गली में वो भूखा फ़क़ीर रहता था,
तलाश कीजे ख़ज़ाना यहीं से निकलेगा|

राहत इन्दौरी