उलझी हुई राहों का तमाशा!

मैं अपनी ही उलझी हुई राहों का तमाशा,
जाते हैं जिधर सब मैं उधर क्यूँ नहीं जाता|

निदा फाज़ली