मेरी आवाज़ वहां तक पहुंचे!

एक इस आस पे अब तक है मेरी बन्द जुबां,
कल को शायद मेरी आवाज़ वहां तक पहुंचे।

गोपालदास “नीरज”