लेकिन गुमनाम नहीं हॊता!

जब ज़ुल्फ़ की कालिख़ में घुल जाए कोई राही,
बदनाम सही लेकिन गुमनाम नहीं हॊता|

मीना कुमारी