ज़हर पिलाते हुए मर जाते हैं!

उनके भी क़त्ल का इल्ज़ाम हमारे सर है,
जो हमें ज़हर पिलाते हुए मर जाते हैं|

अब्बास ताबिश