लहू का रचाव ऐसा था!

वो जिसका ख़ून था वो भी शिनाख्त कर न सका,
हथेलियों पे लहू का रचाव ऐसा था|

कृष्ण बिहारी ‘नूर’