हमारा झुकाव ऐसा था!

फिर उसके बाद झुके तो झुके ख़ुदा की तरफ़,
तुम्हारी सम्त हमारा झुकाव ऐसा था|

कृष्ण बिहारी ‘नूर’