ख़यालों तक गईं गोलाइयां हैं!

मुतास्सिर लोग यूँ हैं रोटियों से,
ख़यालों तक गईं गोलाइयां हैं|

सूर्यभानु गुप्त