इक कली खिल गई एक मुरझा गई!

मौत और ज़िन्दगी क्या हैं इसके सिवा,
इक कली खिल गई एक मुरझा गई।

नक़्श लायलपुरी