इक आवाज़ बुलाने आई!

मैंने जब पहले-पहल अपना वतन छोड़ा था,
दूर तक मुझको इक आवाज़ बुलाने आई|

कैफ़ भोपाली