शोर उठता है कहीं दूर

शोर उठता है कहीं दूर क़ाफिलों का-सा,
कोई सहमी हुई आवाज़ में बुलाता है|

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना