काम यक़ीं का गुमाँ से हम!

अब तो सराब ही से बुझाने लगे हैं प्यास,
लेने लगें हैं काम यक़ीं का गुमाँ से हम|

राजेश रेड्डी