सुनाई नहीं जाने वाली!

चीख़ निकली तो है होंठों से मगर मद्धम है,
बंद कमरों को सुनाई नहीं जाने वाली|

दुष्यंत कुमार