कोई दरीचा खुला न था!

राशिद किसे सुनाते गली में तेरी गज़ल,
उसके मकां का कोई दरीचा खुला न था।

मुमताज़ राशिद