अपने सुख़न में ढलते हैं!

तुम बनो रंग, तुम बनो ख़ुशबू,
हम तो अपने सुख़न में ढलते हैं|

जॉन एलिया