ज़ख़्म अगर महकाओ तो क्या!

कोई रंग तो दो मेरे चेहरे को,
फिर ज़ख़्म अगर महकाओ तो क्या|

ओबेदुल्लाह अलीम