खिंचता चला आए ख़ुद भी!

लुत्फ़ तो जब है तअल्लुक़ में कि वो शहरे-जमाल,
कभी खींचे कभी खिंचता चला आए ख़ुद भी|

अहमद फ़राज़