तन्हाई नहीं जाने वाली!

आज सड़कों पे चले आओ तो दिल बहलेगा,
चन्द ग़ज़लों से तन्हाई नहीं जाने वाली|

दुष्यंत कुमार