मैं जो डूबा, उभर गया कोई!

इश़्क भी क्या अजीब दरिया है,
मैं जो डूबा, उभर गया कोई|

सूर्यभानु गुप्त