लहजे को भी बाज़ारी रखो!

ले तो आए शाइरी बाज़ार में ‘राहत’ मियां,
क्या ज़रूरी है कि लहजे को भी बाज़ारी रखो|

राहत इन्दौरी