रब्त बढ़ाना बहुत हुआ!

अब हम हैं और सारे ज़माने की दुश्मनी,
उससे ज़रा सा रब्त बढ़ाना बहुत हुआ|

अहमद फ़राज़