क्या कठिनाइयां हैं!

जो ग़ालिब आज होते तो समझते,
ग़ज़ल कहने में क्या कठिनाइयां हैं|

सूर्यभानु गुप्त