पर्दा है पर्दा!

हिजाब को लेकर एक नया मुद्दा मिला है आन्दोलनजीवी, जो जब से मोदी सरकार आई है, असंतोष पैदा करने का लिए मुद्दे ढूंढते ही रहते हैं|


मैं एक बार फिर से कह दूँ कि यद्यपि प्रधानमंत्री जी ने देश की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए तीनों कृषि कानून वापस ले लिए हैं, क्योंकि किसान आंदोलन की आड़ में खलिस्तानी और अन्य भारत विरोधी ताक़तें कोई बड़ा खेल खेलना चाहती थीं| सारा पैसा कनाडा आदि से आता था और वहाँ के नेता भी वास्तव में यहाँ आए थे| आज कनाडा इसी प्रकार के आंदोलन का सामना कर रहा है और वहाँ की सरकार ने कड़ी चेतावनी दे दी है कि अर्थव्यवस्था को किसी प्रकार का नुकसान पहुंचाना बर्दाश्त नहीं किया जाएगा| जबकि यहाँ चले आंदोलन का वहाँ के प्रधानमंत्री ने खुद खालिस्तानियों के दवाब में समर्थन किया था, जबकि दूसरे देश के ऐसे आंतरिक मामलों में उनका टिप्पणी करना उचित नहीं था|

मुझे लगता है कि अब यहाँ के आन्दोलनजीवियों को कनाडा जाकर वहाँ की सरकार द्वारा मिलने वाली आवभगत का आनंद लेना चाहिए|

अब हिजाब की बात| दुनिया भर में, मुस्लिम राष्ट्रों में भी, जबकि महिलाएं आगे बढ़ रही हैं, पर्दा, हिजाब आदि का विरोध कर रही हैं, यहाँ कर्नाटक में छात्राओं में नई सोच पैदा हुई है कि वे हिजाब में ही स्कूल। कालेज जाएंगी| ये तालिबानी सोच वास्तव में उन छात्राओं की नहीं है, अपितु उन घुटे हुए नेताओं/ मुल्लाओं की है जो किसी न किसी बहाने से असंतोष फैलाना चाहते हैं| कभी वे सीएए के बहाने वृद्ध महिलाओं को आगे कर देते हैं, कभी किसानों को मोहरा बनाते हैं और अब भोली- भाली छात्राओं के पीछे छुपकर अपने घटिया खेल को खेल रहे हैं|

ऐसा नहीं है कि इन छात्राओं ने अभी स्कूल/कालेज जाना शुरू किया है, लेकिन यह दकियानूसी सोच उनके माध्यम से अभी फैलाई जा रही है|

मैं समझता हूँ कि जावेद अख्तर, शबाना आज़मी आदि जैसे लोग जो अपने आपको प्रगतिशील मानते हैं उनको इस आंदोलन का विरोध करना चाहिए| मेरे विचार में न्यायपालिका द्वारा भी इस संबंध में सख्त दिशानिर्देश जारी किए जाने चाहिएं और सरकार द्वारा ऐसे विभाजनकारी प्रयासों से कड़ाई के साथ निपटा जाना चाहिए|


******

मासूमियत के नए प्रतिमान!

मेरे घर में आजकल काक्रोच की समस्या काफी गंभीर है| कुछ समझ में नहीं आ रहा कि इनसे कैसे छुटकारा पाया जाए| कई बार जब हम इनको मारने के लिए स्प्रे करने लगते हैं तो पाते हैं कि बहुत छोटे-छोटे मासूम से काक्रोच सामने आते हैं। जो भी हो छोटा बच्चा अच्छा लगता है, इन पर प्यार करें तो क्या हम स्वयं से प्यार कर पाएंगे!


मेरे देश में भी आज कुछ ऐसी ही हालत है| काक्रोच हर कोने से प्रकट हो रहे हैं, किसान आंदोलन के बहाने से! वैसे यह आंदोलन अपने आप में बस गरीब किसान के नाम पर ही है| इस आंदोलन को लेकर ‘न्यूयार्क टाइम्स’ में पूरे पेज का एक विज्ञापन छापा गया, जिसकी लागत लगभग एक लाख, पचास हजार डॉलर अर्थात एक करोड़ रुपए आती है| किस गरीब किसान संगठन ने खर्च की होगी ये रकम और क्यों!


सिर्फ इतना ही नहीं अमरीका में विज्ञापन के रूप में इस विषय में बनाई गई फिल्म भी करोड़ों में बनाकर दिखाई जा रही है| इसके अलावा ‘ग्रेटा थंबर्ग’ जैसे बिकाऊ ‘पर्यावरण विदों’ ने भी करोड़ों रुपये इसमें कूदने के लिए खाए हैं|

लेकिन जिस ‘टूलकिट’ का इस्तेमाल ‘ग्रेटा’ ने इस संबंध में प्रचार के लिए किया है, और यह बाकायदा ‘कार्य योजना’ है इस विषय को लेकर असंतोष भड़काने और दंगे फैलाने की, वह ‘टूलकिट’ भी हमारे यहाँ की एक मासूम सी बच्ची ने बनाई थी, जो ‘ग्रेटा’ के साथ अपनी चैट में यह स्वीकार करती है कि इसके कारण उस पर यूएपीए के अंतर्गत देशद्रोह संबंधी कार्रवाई हो सकती है|


हम अक्सर अपने देशभक्त नायकों के बारे में बात करते हैं, लेकिन सच्चाई यह है कि हमारे यहाँ देशद्रोही भी कम नहीं हुए हैं| मासूम बच्ची ‘दिशा रवि’ की छोटी उम्र का बहाना लेकर भी बहुत से मानवीयता वादी सामने आ गए हैं| वैसे आप यह देख सकते हैं कि ये विशेष लोग कभी देश के पक्ष में खड़े नहीं होते| किसान आंदोलन से जोड़कर जो देश-विरोधी काम किए गए, विशेष रूप से 26 जनवरी को, और जिनकी पूर्व योजना ‘टूलकिट’ आदि में दर्शाई गई, वह इन बेचारों को दिखाई ही नहीं देती|


देश और विदेश में फैला यह वर्ग, जिसमें खालिस्तानी भी सम्मान सहित शामिल हैं, आज के भारत का, और विशेष रूप से देश के लोकप्रिय प्रधानमंत्री मोदी जी का दुश्मन है और उनका मुक़ाबला करने के लिए ये लोग नैतिकता की परवाह न करते हुए किसी भी सीमा तक जा सकते हैं|

वरना किसान आंदोलन में कोई ऐसी समस्या नहीं है, जिसका समाधान न किया जा सके| परंतु ये लोग समाधान चाहते ही नहीं हैं| ये लोग तो इस आंदोलन को चुनावों से जोड़कर चलाना चाहते हैं|


देश से प्रेम करने वाले लोग यह विश्वास रखें कि यह लोग इस देश का कुछ नहीं बिगाड़ पाएंगे, भले इनके विदेशी साथी कितना ही पैसा इस समस्या को बढ़ाने के लिए बहाते रहें|


आज के लिए इतना ही|
नमस्कार|
*******