सूरज हैं सर्द मुल्कों के!

हम तो सूरज हैं सर्द मुल्कों के,
मूड आता है तब निकलते हैं।

सूर्यभानु गुप्त