मुसाफ़िर भी काफ़िला है मुझे!

हमसफ़र चाहिये हुजूम नहीं,
इक मुसाफ़िर भी काफ़िला है मुझे|

अहमद फ़राज़