क्या क्या जुल्म न ढाया लोगों ने!

हम को दीवाना जान के क्या क्या जुल्म न ढाया लोगों ने,
दीन छुड़ाया, धर्म छुड़ाया, देस छुड़ाया लोगो ने|

कैफ़ भोपाली

इक आवाज़ बुलाने आई!

मैंने जब पहले-पहल अपना वतन छोड़ा था,
दूर तक मुझको इक आवाज़ बुलाने आई|

कैफ़ भोपाली

कविता कैसे लिखते हो तुम!

राजनैतिक विचार देने में अक्सर संकट शामिल होता है, लेकिन मुझे लगता है कि यह काम भी कभी-कभी करना चाहिए, भले ही वह धारा के विरुद्ध जाता हो|


एक फैशन सा बन गया है कि जिन कवियों की वाणी से आपातकाल के विरुद्ध एक शब्द नहीं निकल पाया, आज वे जी भरकर सरकार को गालियां भी देते हैं और यह भी कहते हैं कि बहुत दमन हो रहा है, नागरिक स्वतंत्रता पर बहुत बड़ा संकट मंडरा रहा है|

हमने एक वर्ष से अधिक समय तक दिल्ली की सीमाओं पर ‘किसान आंदोलन’ के नाम पर किया गया तमाशा देखा, जिसे विदेशों से स्पांसर किया गया था| आज उसकी खुराक प्रायोजक देश कनाडा को भी भुगतनी पड़ रही है| मजबूरी में प्रधान मंत्री जी को देशहित में वे कृषि कानून वापस लेने पड़े, जो कृषि विशेषज्ञों की राय के अनुसार किसानों, विशेष रूप से छोटे किसानों के हित में थे|

ऐसे में कवियों की भूमिका क्या हो सकती है, ये बिरादरी तो मार्क्सवादी दिव्य दृष्टि से युक्त है और ऐसा नहीं लगता कि ये वास्तव में देशहित को समझ भी सकते हैं| विभिन्न कदमों के आधार पर सरकार की आलोचना करनी ही चाहिए परंतु ये मार्क्सवादी बिरादरी तो यह मान बैठी है कि जनता ने मूर्खतावश गलत निर्णय लेकर यह सरकार बना दी है, जो कोई बड़ा घोटाला नहीं कर रही, पत्रकारों और कवियों को विश्व भ्रमण नहीं करा रही आदि-आदि|

हर दल के साथ कुछ अच्छाइयाँ और बुराइयाँ होती हैं, उनके समर्थक भी एक या दूसरी प्रकार से अतिवादी होते हैं और हैं|

ये बातें मैं कह सकता हूँ क्योंकि मुझे तो कोई चुनाव नहीं लड़ना है, ऐसे में मार्क्सवादी दिमाग़ों से उपजी कविताओं पर प्रतिक्रिया के रूप में कुछ लिखा है, आप चाहें तो इसे कविता मान सकते हैं|


इतनी घृणा संजोकर मन में,
कविता कैसे लिखते हो तुम|

सत्ता का विरोध आखिर जब,
बन जाए विरोध दल का ही,
और सम्मिलित हो कवि इसमें
किसी पक्ष का बन ध्वजवाही|
तब जो हो, वह नारा होगा,
उसको कविता कहते हो तुम|

राजनीति में तो होंगे ही,
घोर समर्थक, घोर विरोधी,
पर कवि की भूमिका नहीं है,
किसी पक्ष में डट जाने की,
घृणा बुराई से ही करिए,
लोगों से क्यों करते हो तुम|

जनता चुनती है शासक को,
कमियाँ सदा बता सकते तुम,
पर जनमत को ही नकारकर
अलग कहानी कहते हो तुम|
कहां हुई गलतियां बताओ
क्यों फतवे ही देते हो तुम|


-श्रीकृष्ण शर्मा ‘अशेष’

आज के लिए इतना ही,
नमस्कार|
*********

जंगल में दूर-दूर, हवा का पता न था!

आज फिर से पुराने ब्लॉग का दिन है, लीजिए प्रस्तुत है एक और पुरानी ब्लॉग पोस्ट-

हमारे एक प्रसिद्ध फिल्मी अभिनेता, निर्माता, निर्देशक हुए हैं, अभी वे सक्रिय नहीं हैं, ईश्वर उनको लंबी उम्र दे, वे हैं- श्री मनोज कुमार।


फिल्म निर्माता के रूप में उन्होंने एक विशेष विषय पर फिल्में बनाई- देशप्रेम और देशभक्ति। उनकी फिल्म के एक गीत की पंक्ति है-

है प्रीत जहाँ की रीत सदा,
मैं गीत उसी के गाता हूँ,
भारत का रहने वाला हूँ,
भारत की बात सुनाता हूँ।


अचानक यह गीत याद आया तो खयाल आया कि देश, देशप्रेम एक बहुत अच्छा विषय है, लेकिन कवियों / शायरों के लिए मूलभूत विषय तो ज़िंदगी है। असल में उसके बाद ही, उससे जुड़कर ही बाकी सभी विषय आगे आते हैं।
श्रेष्ठ कवि श्री रामावतार त्यागी जी की पंक्तियां हैं-

एक हसरत थी कि आंचल का मुझे प्यार मिले,
मैंने मंज़िल को तलाशा, मुझे बाज़ार मिले,
ज़िंदगी और बता, तेरा इरादा क्या है!


इस गीत में वे ज़िंदगी को चुनौती देते हुए दिखाई देते हैं। बस इस ज़िंदगी के सफर से जुड़ी एक गज़ल शेयर कर रहा हूँ, जिसे श्री हरिहरन, पंकज उधास और शायद और भी कई गायकों ने गाया है। इस खूबसूरत गज़ल के लेखक हैं- श्री मुमताज़ राशिद।


लीजिए इस गज़ल का आनंद लीजिए-

पत्थर सुलग रहे थे कोई नक्श-ए-पा न था
हम जिस तरफ़ चले थे उधर रास्ता न था।

परछाइयों के शहर की तनहाइयां न पूछ,
अपना शरीक-ए-ग़म कोई अपने सिवा न था।

पत्तों के टूटने की सदा घुट के रह गई,
जंगल में दूर-दूर, हवा का पता न था।


राशिद किसे सुनाते गली में तेरी गज़ल,
उसके मकां का कोई दरीचा खुला न था।

पत्थर सुलग रहे थे कोई नक्श-ए-पा न था,
हम उस तरफ़ चले थे जिधर रास्ता न था।

आज के लिए इतना ही|
नमस्कार।

*********