तामीर की हसरत भी थी!

जो हवा में घर बनाया काश कोई देखता,
दश्त में रहते थे पर तामीर की हसरत भी थी|

मुनीर नियाज़ी