कू-ए-सितमगर के हो गये!

अब के ना इंतेज़ार करें चारागर का हम,
अब के गये तो कू-ए-सितमगर के हो गये|

अहमद फ़राज़