टूटे हुए खिलौने का!

है पाश-पाश मगर फिर भी मुस्कुराता है,
वो चेहरा जैसे हो टूटे हुए खिलौने का |

जावेद अख़्तर