प्यास बुझाते हुए मर जाते हैं!

दश्त में प्यास बुझाते हुए मर जाते हैं,
हम परिंदे कहीं जाते हुए मर जाते हैं|

अब्बास ताबिश