दूरियाँ, मजबूरियाँ, तन्हाइयाँ!

ज़िंदगी शायद इसी का नाम है,
दूरियाँ, मजबूरियाँ, तन्हाइयाँ|

कैफ़ भोपाली