मिरा घर तो है दरवाज़ा नहीं!

कोई भी दस्तक करे आहट हो या आवाज़ दे,
मेरे हाथों में मिरा घर तो है दरवाज़ा नहीं|

वसीम बरेलवी