उसी दर के हो गये!

तुझसे बिछड़ के हम भी मुकद्दर के हो गये,
फिर जो भी दर मिला है उसी दर के हो गये|

अहमद फ़राज़