इतना तो दिया हो नहीं सकता!

दहलीज़ पे रख दी हैं किसी शख़्स ने आँखें,
रौशन कभी इतना तो दिया हो नहीं सकता|

मुनव्वर राना