क़ुसूर न करना क़ुसूर था!

उसके करम पे शक तुझे ज़ाहिद ज़रूर था,
वरना तेरा क़ुसूर न करना क़ुसूर था|

आनंद नारायण ‘मुल्ला’