वो खत जो तुम्हें दे न सके–

अब भी किसी दराज में मिल जाएंगे तुम्हें,
वो खत जो तुम्हें दे न सके लिख लिखा लिए।

कुंवर बेचैन