Categories
Uncategorized

सपने ताजमहल के हैं!

आज मैं हिन्दी बहुत प्यारे कवि/ गीतकार स्वर्गीय बाल स्वरूप राही जी की एक गजल प्रस्तुत कर रहा हूँ| राही जी ने बहुत अच्छे गीत और गज़लें हमें दी हैं| आज की ये गजल भी आशा है आपको पसंद आएगी-

 

 

उनके वादे कल के हैं,
हम मेहमाँ दो पल के हैं ।

 

कहने को दो पलकें हैं,
कितने सागर छलके हैं ।

 

मदिरालय की मेज़ों पर,
सौदे गंगा जल के हैं ।

 

नई सुबह के क्या कहने,
ठेकेदार धुँधलके हैं ।

 

जो आधे में छूटी हम,
मिसरे उसी ग़ज़ल के हैं ।

 

बिछे पाँव में क़िस्मत है,
टुकड़े तो मखमल के हैं ।

 

रेत भरी है आँखों में,
सपने ताजमहल के हैं ।

 

क्या दिमाग़ का हाल कहें,
सब आसार खलल के हैं ।

 

सुने आपकी राही कौन,
आप भला किस दल के हैं ।

 

आज के लिए इतना ही|
नमस्कार|

******

Categories
Uncategorized

हाय रे अकेले छोड़ के जाना, और न आना बचपन का!

आज मुझे अपने परम प्रिय गायक जी का गाया, फिल्म देवर का एक गीत याद आ रहा है, जो अभिनेता धर्मेंद्र जी पर फिल्माया गया था। इस गीत को लिखा था आनंद बख्शी जी ने और रोशन जी के संगीत निर्देशन में मुकेश जी ने अपने मधुर स्वर में इस गीत को गाकर अमर कर दिया है।

गीत का विषय भी ऐसा ही है, वास्तव कुछ चीजें जो जीवन में अनमोल होती हैं, उनमें से एक है बचपन, और बचपन के अनमोल होने को इस गीत में बहुत सुंदरता में अभिव्यक्त किया गया है।

लीजिए प्रस्तुत है यह अमर गीत-

 

 

आया है मुझे फिर याद वो जालिम,
गुज़रा ज़माना बचपन का,
हाय रे अकेले छोड़ के जाना
और न आना बचपन का,
आया है मुझे फिर याद वो जालिम।

 

वो खेल वो साथी वो झूले,
वो दौड़ के कहना आ छू ले,
हम आज तलक भी न भूले-
हम आज तलक भी न भूले,
वो ख्वाब सुहाना बचपन का,
आया है मुझे फिर याद वो जालिम।

 

इसकी सबको पहचान नहीं,
ये दो दिन का मेहमान नहीं-
ये दो दिन का मेहमान नहीं,
मुश्किल है बहुत आसान नहीं,
ये प्यार भुलाना बचपन का,
आया है मुझे फिर याद वो जालिम।

 

मिल कर रोयें फरियाद करें,
उन बीते दिनों की याद करें,
ऐ काश कहीं मिल जाये कोई-
ऐ काश कही मिल जाये कोई,
जो मीत पुराना बचपन का।
आया है मुझे फिर याद वो जालिम।
गुज़रा ज़माना बचपन का।

 

आज के लिए इतना ही।
नमस्कार।

*****

Categories
Uncategorized

Two Yards Of Land!

This life of ours is termed as ‘Mirage’ by many learned people and Saints. We come to this world, we learn, acquire knowledge and skills as per our requirements and capacity and then we wish to get into a service or business, that we are able to get into for living a life fulfilling our dreams.

 

There are many novels and poems that highlight, how everybody has big dreams in life and there are very few who are able to reach somewhere near to their dreams. It is also true, that our dreams are limited by our living conditions. The conditions we live in often shorten our horizon, everybody can’t normally think of becoming a Mukesh Ambani or so.

It is often not easy to explain what we look for in our life. True that everybody likes to live his or her life with happiness, but what is the thing or set of things or living conditions, that give us happiness keep changing with time and our status. Our present status often determines the range of the satellite of our dreams.

Often we are not in a condition to differentiate between our needs and our aspirations or may be our greed. If our needs are met, we might feel satisfied but mostly our dreams do overpower our feeling of satisfaction also. In today’s world everybody is in a continuous race, we are running to achieve what we observe that some other people are having and we must also acquire, to be at same level, and then move further.

We listen to old stories of wishes of people getting fulfilled, some demons praying God, pleasing them and then getting a boon of becoming invincible, but that also fails in the end, since there are certain rules, which they eventually do not follow, considering themselves invincible.

There was also a story that a saint taking pity on a small mouse made him a lion, but later he tries to attack the Saint and had to again become a mouse.

There is the famous story from Ramayana, where Kaikeyi one of the three queens of King Dasharatha, gets her wish fulfilled through boons from Dasharath that her son Bharat should be made the king of Ayodhya and Rama the elder brother be sent to exile! But did she get what she wanted to achieve through fulfillment of her wishes!

Yes it is right that we follow our dreams, have wishes in life and make good efforts to achieve them, but let the wishes, our dreams not be such that we keep tracing them and finally do not get anything.

There was a story in Hindi which in English can be termed as ‘Two yards of land’. In this story a King tells a person that he can start walking in the morning and whatever area of land he covers till sunset, would be owned by him. The persons keeps extending his lust for land, keeps walking with more and more speed till evening and finally falls down and dies. Ultimately he gets the two yards of land, where he fell down.

Finally I would like to sum up with a couplet by Saint Kabir Das Ji, which says- Saain itna Dijiye, jaame kutumb samaay, main bhi bhookha na rahoon, Sadhu na bhookha jaay’ ( Oh God , give me so much, which fulfills my family needs, so that we do not remain hungry and are also in a position to feed our guest).

So definitely happiness is the ultimate goal, we must try to achieve in our life, whatever is achievable by our talent and efforts, without being over worked or being impractical. Yes in addition to this personal wish, I wish that there is peace and harmony in society and an atmosphere in which everybody can pursue his or her dreams.

This is my humble submission on the #IndiSpire prompt- I wish. We all wish. What’s that wish? #WishMine

Thanks for reading.

******

Categories
Uncategorized

Life- a celebration of gratitude.

I remember a description of a character from a novel by late Mohan Rakesh Ji. He wrote about the convent school where the hero of the novel studied and he remembers the character – a priest in the boarding school church, who always prayed for the sins of all to be pardoned, which prayer was to be repeated by the all others after him.

 

 

What he wrote about the character was that he always prayed for pardon by Lord for everyone, this activity was so much done by him that if you look at his face, it appeared that he was begging for sins to be pardoned, this expression of ‘begging pardon’ was permanently like engraved on his face.

It just came to my mind, while thinking on a subject. In our lives we ourselves choose, what kind of a person we are going to be. Whether we would find faults in everything and with everybody or would be thankful towards all, who in anyway helped us achieve our goals. Since we live in a society, we are inter-dependent on each other. Nobody can survive and achieve all his goals alone, we need help from others every day.

It is our choice whether we feel grateful towards all others who helped in our life in whatever way, starting first from the God almighty, if we believe in him. It is we only who realize who all have helped and blessed us in our life. We need to be grateful to our parents, to our teachers, our neighbors, those all who inspire and guide us in whatever way.

The list of things or happenings can be endless for which we can feel grateful. For example one can be grateful that he was born as a human being, living in a society spread worldwide, we might be divided in countries and regions but we all are members of a big human race and in some way work for the betterment of humanity.

As an individual one can express gratitude for so many things. For being a healthy person, with all faculties working well, if so,  say if one can walk, talk, see and do all normal things, it is a great boon, which so many people do not have.

Further if one can study up to a level that he understands this world well, does read good literary books, can watch good movies, make good friends and does get a job, that suits his requirements and makes him capable of seeing bigger dreams, it is a great thing accomplished and one should feel grateful for that, since sky is the limit for those who keep hope alive and go on making efforts, in whatever field they excel.

One big thing is that if a person is in a position to help others, in making their life better in whatever way, he is a really contributing member of human society and he should feel grateful towards all who were helpful in making him capable of helping others.

There are innumerable things for which we can feel grateful and express gratitude and I am not able to limit it to a few things. I feel life in itself is a celebration of gratitude.

This is my humble submission on the #IndiSpire prompt- Its the month of gratitude. Share three things you are grateful for. #gratitudemonth .

Thanks for reading.

***** 

Categories
Uncategorized

सपने- लैंग्स्टन ह्यूजिस की कविता

आज, मैं विख्यात अंग्रेजी कवि लैंग्स्टन ह्यूजिस की एक छोटी सी परंतु महत्वपूर्ण संदेश वाली कविता का अनुवाद प्रस्तुत कर रहा हूँ। यह उनकी अंग्रेजी भाषा में प्रकाशित जिस कविता का भावानुवाद है, उसे अनुवाद के बाद प्रस्तुत किया गया है। मैं अनुवाद के लिए अंग्रेजी में मूल कविताएं सामान्यतः ऑनलाइन उपलब्ध काव्य संकलन- ‘PoemHunter.com’ से लेता हूँ। लीजिए पहले प्रस्तुत है मेरे द्वारा किया गया उनकी कविता ‘Dreams’ का भावानुवाद-

 

 

सपने

 

अपने सपनों को कसकर पकड़े रहो,
क्योंकि यदि स्वप्न मर गए तो
जीवन एक परकटे पक्षी के समान हो जाएगा-
जो उड़ नहीं सकता।
सपनों को कसकर पकड़े रहो
क्योंकि जब स्वप्न चले जाते हैं, तब
जीवन एक बंजर खेत के समान हो जाता है,
जिस पर बर्फ जम गई हो।

 

लैंग्स्टन ह्यूजिस

और अब वह अंग्रेजी कविता, जिसके आधार मैं भावानुवाद प्रस्तुत कर रहा हूँ-

Dreams

Hold fast to dreams
For if dreams die
Life is a broken-winged bird
That cannot fly.
Hold fast to dreams
For when dreams go
Life is a barren field
Frozen with snow.

 

-Langston Hughes

आज के लिए इतना ही,
नमस्कार।

************

Categories
Uncategorized

रोशनी को शहर से निकाला गया!

कभी हुआ कि घर में कामवाली अपने साथ अपने 5-6 साल के बेटे को ले आई, वह बच्चा घर में इधर-उधर घूमता है, कमर से हाथ पीछे करके निरीक्षण करता है, ये अच्छी बात है कि उसको यह एहसास नहीं है कि यहाँ उसकी मां की स्थिति क्या है! मुझे कभी लगता है कि मेरा बचपन भी ऐसा ही था, हालांकि मेरी मां को किसी के घर में काम नहीं करना पड़ा, लेकिन हम घर में करने के लिए कुछ काम लेकर आते थे, जैसे माला में मोती पिरोना आदि। मुझे अभी तक याद है कि अपने एक अमीर रिश्तेदार के घर में डाइनिंग टेबल और उसके ऊपर एक टोकरी में रखे ढेर सारे फल देखकर मुझे बहुत अचंभा हुआ था!

खैर सपनों की उड़ान तो वहाँ से ही शुरू होती है ना, जहाँ हम शुरू में होते हैं। मैंने अपने सेवाकाल के बारे में संक्षेप में लिखा, जहाँ समय पर पढ़ाई पूरी न कर पाने के कारण कोई मंज़िल सामने नज़र नहीं आती थी, वहाँ रु. 100 प्रतिमाह से लेकर उससे लगभग 100 गुना तक जाना, अपने आप में संतोषजनक तो कहा ही जा सकता है।

लेकिन मेरा स्वप्न कभी भी, या कहूं जबसे सोचना-समझना, लिखना शुरू किया, तब से यह कभी नहीं था कि मैं सेवा में किस स्तर तक अथवा कितने वेतन तक पहुंचूंगा! संघर्ष के दिनों के मेरे एक वरिष्ठ साथी थे श्री कुबेर दत्त, पता नहीं अब वे जीवित हैं या नहीं, मेरे पास उनके कई पत्र, पोस्ट कार्ड सुरक्षित रखे रहे, बहुत समय तक, वो अक्सर यही लिखते थे कि मैं तुमसे बहुत बात करना चाहता हूँ। वे दूरदर्शन में बहुत सफल प्रोड्यूसर और डाइरेक्टर रहे, बहुत से अच्छे प्रोग्राम उन्होंने तैयार किए लेकिन ये भी लागता है कि वे वहाँ जाकर कला की दृष्टि से समाप्त भी होते गए। उनके दो गीतों से पंक्तियां उद्धृत करने का मन हो रहा है, एक बहुत सुंदर गीत उनका बेरोज़गारी के दिनों का, उसकी पंक्तियां हैं-

नक्काशी करते हैं नंगे जज़्बातों पर, लिखते हैं गीत हम नकली बारातों पर,
बची-खुची खुशफहमी, बाज़ारू लहज़े में, करते हैं विज्ञापित कदम-दर-कदम।

एक गीत जो उन्होंने दूरदर्शन में सेवारत रहते हुए लिखा था, उसकी पंक्ति याद आ रही है-

उस पुराने चाव का, प्यार के बहलाव का,
दफ्तरों की फाइलें, अनुवाद कर पाती नहीं।

कुल मिलाकर बहुत से काम ऐसे हैं जो दूर से बहुत आकर्षक लगते हैं, जैसे दूरदर्शन में कार्यक्रम प्रोड्यूस करने वाला काम! मैंने भी आकाशवाणी में काम किया है, यद्यपि मैं प्रशासन में था, कलाकारों का सात बहुत मिला, लेकिन अक्सर लगता था कि कला प्रस्तुति के ऊपर दफ्तर की औपचारिकताएं ज्यादा हावी रहती हैं।

बहरहाल मैं यही कहना चाहता हूँ कि हमेशा से मेरा सपना अपनी कला के बल पर, कविताओं के बल पर नाम कमाने का था। मुझे राज कपूर जी का उदाहरण याद आता है, कितनी अच्छी टीम बनाई थी उन्होंने। इस टीम के एक सदस्य शैलेंद्र जी, वे इप्टा में नाटकों आदि के लिए डायलॉग और गीत लिखते थे, पृथ्वीराज जी ने उनसे प्रभावित होकर कहा कि मेरा बेटा फिल्म बना रहा है, उसके लिए गीत लिखो, शुरू में तो शैलेंद्र जी ने मना कर दिया लेकिन बाद में आर्थिक तंगी के कारण वे तैयार हो गया और हमें यह महान रचनाकर मिल गया!

मुझे नीता जी का किस्सा याद आ रहा है, जो उन्होंने कहीं शेयर किया था, उस समय उनका ‘सरनेम’ क्या था, पता नहीं। उन्होंने नृत्य का एक कार्यक्रम प्रस्तुत किया था जिसे मुकेश अंबानी ने देखा और उनको बहुत पसंद किया। बाद में उनके घर फोन आया, उन्होंने उठाया, उधर से आवाज आई-‘मैं धीरूभाई अंबानी बोल रहा हूँ’, उनको लगा कि कोई मजाक कर रहा है, और उन्होंने कहा- ‘मैं क्लिओपेट्रा बोल रही हूँ (शायद कोई और नाम था)’ और फोन रख दिया। ऐसा एक से अधिक बार हुआ बाद में उनके पिता से धीरूभाई जी की बात हुई और उन्होंने बताया कि उनका बेटा ‘मुकेश’ नीता जी से विवाह करना चाहता और इस प्रकार किस्मत धकेलते हुए उनके पास चली आई।

तो यह खेल है किस्मत का और सपनों का, मेरा सपना रहा है कि रचनात्मकता के आधार पर मैं अपना स्थान बनाऊं, कविता में, अनुवाद में भी मैं देखता हूँ कि भ्रष्ट अनुवाद करने वाले आसनों पर डेरा जमाए हैं और कोशिश करते हैं कि कोई वास्तव में क्रिएटिव व्यक्ति वहाँ घुसकर उनके नकलीपन को चुनौती न दे पाए। एक कवि की गीत पंक्ति याद आती है-

फ्यूज़ बल्बों के अद्भुद समारोह में,
रोशनी को शहर से निकाला गया।

बाकी सपनों का क्या है, वो रुकते थोड़े ही हैं आने से, कभी लगता है कि किसी प्रसिद्ध प्रोड्यूसर ने कुछ पढ़ा, वह मुरीद हो गया और उसने मुंबई बुला लिया, क्या मुंबई जाने के लिए व्यक्ति का भिक्षुक वाली स्थिति में पहुंचना जरूरी है।

बातें। तो बहुत हैं और सपने भी, लेकिन आज के लिए इतना ही,

नमस्कार।

*******

Categories
Uncategorized

जो एक सपना अपनाए!

आज फिर से सपनों की बात करते हैं, सपने वे जो हम अपने जीवन के बारे में जीते-जागते देखते हैं, इतने कि वे हमारी नींद के दौरान भी आने के लिए मज़बूर हो जाएं।
मेरा सपना रहा है हमेशा से क्रिएटिव राइटिंग के क्षेत्र में नाम कमाने का। ऐसा नहीं है कि जीवन में कुछ आगे नहीं बढ़ा। असल में जैसे-जैसे हम आगे बढ़ते हैं, वैसे-वैसे ही हमारी आंखों में बसने वाला क्षितिज भी, हमारी अपेक्षित मंज़िल भी आगे कदम बढ़ाती जाती है।

 

 

एक उदाहरण याद आता है, एक अमीर बच्चे को गरीबी पर निबंध लिखने को कहा गया, तब उसने लिखा- एक बच्चा था, वह बहुत गरीब था, उसके माता-पिता गरीब थे, उसका नौकर, उसका ड्राइवर, माली सभी गरीब थे। अब वह बेचारा यह जानता ही नहीं था कि गरीब लोगों के पास ये – नौकर, माली, ड्राइवर आदि-आदि नहीं होते।

खैर फिर अपनी बात पर आता हूँ, ठीक से पढ़ नहीं पाया था, कालेज की रैगुलर पढ़ाई नहीं हो पाई, शुरू में दिल्ली में दो-तीन नौकरियां प्राइवेट क्षेत्र में कीं, जिनमें से एक दिल्ली प्रैस में भी थी- सरिता, मुक्ता आदि-आदि पत्रिकाएं जहाँ से छपती हैं, वहाँ सर्कुलेशन विभाग में , उसके बाद स्टाफ सेलेक्शन कमीशन के माध्यम से लोवर डिवीजन क्लर्क के रूप में सचिवालय में नौकरी मिली और इस नौकरी में रहते हुए प्राइवेट छात्र के रूप में बी.ए. की परीक्षा पास की। इस नौकरी में रहते हुए यही संभावना थी कि रिटायर होते-होते सचिवालय में एसिस्टेंट अथवा अधिक से अधिक सेक्शन ऑफिसर बन पाऊंगा।

इस बीच जहाँ अपने सपनों को अभिव्यक्ति देने की बात है, कविताएं लिखता रहा, दिल्ली में कवि-गोष्ठियों में, आकाशवाणी आदि में भी कविता-पाठ के लिए जाता रहा। यह सब विवरण मैं अपने शुरू के ब्लॉग्स में लिख चुका हूँ, जहाँ जीवन की गति-अगति का पूरा ज़िक्र किया है।

इस बीच एक और घटना हुई, स्टाफ सेलेक्शन के ही माध्यम से मैंने परीक्षा पास की और अनुवादक बनकर आकाशवाणी, जयपुर चला गया, इस बीच मैंने दिल्ली विश्वविद्यालय से अनुवाद में डिप्लोमा कर लिया था और वह इसमें बहुत सहायक हुआ। यह ‘सुपरवाइज़र’ श्रेणी का पद था, अर्थात एलडीसी और यूडीसी के दो स्तर पार हो गए थे, जिनको पार करने में वहाँ पूरा सेवाकाल भी लग सकता था!

आकाशवाणी, जयपुर में 3 वर्ष तक रहा और इस बीच हिंदी में एम.ए. भी कर लिया। 3 वर्ष के बाद मुझे हिंदुस्तान कॉपर लिमिटेड में अनुवादक का पद मिला, जो एग्जीक्यूटिव श्रेणी में था, इस प्रकार यह बड़ा पायदान था और सपने देखने के लिए अब सामने विस्तृत आकाश था। यहाँ एक बात और कि इस पद के लिए एक पूर्व केंद्रीय मंत्री के स्टाफ का व्यक्ति भी आया था, जो मान रहा था कि सेलेक्शन तो उसका ही होना है, लेकिन मैं चुना गया, यह सब मैंने विस्तार से शुरू के ब्लॉग्स में लिखा है।

मैं ज्यादा विस्तार में नहीं जाऊंगा, यहाँ मेरा उद्देश्य अपने सेवाकाल का पूरा विवरण देना नहीं, वह सब तो शुरू के ब्लॉग्स में आ ही चुका है, मैं इतना ही उल्लेख करना चाहता हूँ कि पहली नौकरी जो शायद 1967 में दिल्ली के पीतांबर बुक डिपो में रु. 100/- प्रतिमाह पर शुरू की थी, वहाँ से 2010 में एनटीपीसी में आज के लिहाज से उप महाप्रबंधक स्तर तक की यात्रा, हर लिहाज से संतोषजनक कही जा सकती है। लेकिन जैसे-जैसे यात्रा आगे बढ़ती जाती है, सपनों की ऊंचाई भी बढ़ती जाती है।

आज यह विवरण दे दिया, सेवा यात्रा का संक्षेप में, अब सपनों की बात कल करूंगा, पहले जिसका ज़िक्र किया था उस फिल्मी गीत की एक पंक्ति फिर से दोहराना चाहूंगा-

वो तय कर लेगा मंज़िल, जो इस सपना अपनाए।

आज के लिए इतना ही,
नमस्कार।

*******

Categories
Uncategorized

मेरे सपनों से मगर!

अभी कहीं यह उल्लेख हुआ था कि ‘राइटर्स ब्लॉक’ को तोड़ने के लिए, मतलब कि अगर आप कुछ नया नहीं लिख पा रहे हों, तो आपको अपने कोई स्वप्न याद करने चाहिएं और उनको लिख डालना चाहिए, अब यह फैसला आप बाद में कर सकते हैं कि उसको शेयर करना है या नहीं, हाँ इससे आपका लिखने का ‘मोमेंटम’ फिर से बन जाएगा। यह किसी बड़े लेखक का अपनाया हुआ फार्मूला था।

 

मुझे ऐसे ही खयाल आ रहा कि स्वप्नों के बारे में बात की जाए, जो स्वप्न नींद में आते हैं वो तो मुझे याद नहीं रहते। वैसे भी अब्दुल क़लाम साहब ने कहा कि असली स्वप्न वो नहीं होते जो नींद में आते हैं बल्कि वो होते हैं जो आपको सोने नहीं देते। उन्होंने यह भी कहा है कि ‘छोटे सपने देखना अपराध है’।

फिल्म नगरी में मेरे उस्ताद- स्व. राज कपूर जी तो ‘सपनों का सौदागर’ कहलाते थे।

उनके द्वारा अभिनीत इसी नाम वाली एक फिल्म का गीत भी है-

सपनों का सौदागर आया, ले लो ये सपने ले लो,
तुमसे किस्मत खेल चुकी, अब तुम किस्मत से खेलो।
*****
ये रंग-बिरंगे सपने, ये जीवन के उजियारे,
ये तनहाई के साथी, ये भीड़ में संग-सहारे,
ये ढलती रात के सूरज, ये जगती आंख के तारे।
***

जैसा मुझे याद है लिख दिया, इस तरह की बहुत सारी खूबियां सपनों की इस गीत में बताई गई हैं।

एक शेर याद आ रहा है दुष्यंत कुमार जी के गज़ल संकलन ‘साये में धूप’ से जो उन्होंने आपात्काल में लिखा था, जब एक प्रकार से सपने देखना भी अपराध हो गया था। यह शेर है-

लेकर फिरे है ज़ेहन में जाने कहाँ के ख्वाब,
इस सिरफिरे की जामा-तलाशी तो लीजिए।

जितने लोग अपने समय से आगे सोचने वाले रहे हैं, वे अपनी-अपनी तरह से आगे के बारे में सोचते रहे हैं, स्वप्न देखते रहे हैं। वो प्लेटो हों या सुकरात हों, स्वामी विवेकानंद हों या आधुनिक समय में गांधी जी ही क्यों न रहे हों। उनसे लोग चमत्कृत भले ही होते रहे हों, लेकिन लोगों ने उनका अनुसरण बहुत कम किया है।

वैसे फिल्मी गीतों की बात की जाए तो वहाँ सपनों को भी हथियार के रूप में इस्तेमाल किया गया, बहुत सारी मिसाल मिल जाएंगी, मैं यहाँ एक ही दे रहा हूँ, ये देखिए-

हम आपको ख्वाबों में आ-आ के सताएंगे।

और जवाब है-

हम आपकी आंखों से नींदें ही उड़ा दें तो!

सपनों के बारे में बातें बहुत हो सकती हैं, मूड होगा तो आगे करूंगा, आज अंत में डॉ. कुंवर बेचैन जी की पंक्तियां दोहरा देता हूँ-

विरहिन की मांग सितारे नहीं संजो सकते,
प्रेम के सूत्र नज़ारे नहीं पिरो सकते,
मेरी कुटिया से माना कि महल ऊंचे हैं,
मेरे सपनों से मगर ऊंचे नहीं हो सकते।

आज के लिए इतना ही,
नमस्कार।

************

Categories
Uncategorized

संगीत की देवी स्वर-सजनी!

आज फिर से पुराने ब्लॉग का दिन है, लीजिए प्रस्तुत है ये पुरानी ब्लॉग पोस्ट-

 

 

ज़िंदगी सिर्फ मोहब्बत नहीं कुछ और भी है,
ज़ुल्फ-ओ-रुखसार की जन्नत नहीं कुछ और भी है,
भूख और प्यास की मारी हुई इस दुनिया में
इश्क़ ही एक हक़ीकत नहीं, कुछ और भी है।

 

तुम अगर नाज़ उठाओ तो, ये हक़ है तुमको
मैंने तुमसे ही नहीं, सबसे मोहब्बत की है।

 

आज हक़ीकत और कल्पना पर आधारित कुछ फिल्मी गीतों के बारे में बात करते हैं। ऊपर जिस गीत के बोल लिखे गए हैं, वह हक़ीकत के बोझ से दबे, ज़िम्मेदार शायर के बोल हैं, जो देखता है कि दुनिया में इतने दुख हैं, ऐसे में कैसे किसी एक के प्यार में पागल हुआ जाए।

अब कल्पना की धुर उड़ान के बारे में बात कर ली जाए, जहाँ प्रेमी अपने तसव्वुर में इतना पागल है कि सामने जो हक़ीकत है उसको स्वीकार नहीं कर पाता और देखें उसकी कल्पना की उड़ान कितनी दूर तक जाती है-

चंचल, शीतल, निर्मल, कोमल, संगीत की देवी स्वर-सजनी,
सुंदरता की हर मूरत से, बढ़कर के है तू सुंदर सजनी।

 

दीवानगी का एक और आलम ये भी है-

 

ये तो कहो कौन हो तुम, कौन हो तुम,
हमसे पूछे बिना दिल में आने लगे,
नीची नज़रों से बिजली गिराने लगे।

 

एक और मिसाल-

मेहताब तेरा चेहरा, एक ख्वाब में देखा था,
ऐ जान-ए-जहाँ बतला,
बतला कि तू कौन है।

 

और जवाब-

ख्वाबों में मिले अक्सर,
एक राह चले मिलकर,
फिर भी है यही बेहतर-
मत पूछ मैं कौन हूँ।

 

और इसके बाद फिर हक़ीकत की पथरीली ज़मीन पर आते हैं-

देख उनको जो यहाँ सोते हैं फुटपाथों पर,
लाश भी जिनकी कफन तक न यहाँ पाती है,
पहले उन सबके लिए, एक इमारत गढ़ लूं,
फिर तेरी मांग सितारों से भरी जाएगी।

 

आज के लिए इतना ही!
नमस्कार।

****************