नहीं मिलता!

कभी किसी को मुकम्मल जहां नहीं मिलता,
कहीं ज़मीं तो कहीं आसमां नहीं मिलता|

निदा फ़ाज़ली