हक़ीक़त पर्वतों की राइयां हैं!

बिके पानी समन्दर के किनारे,
हक़ीक़त पर्वतों की राइयां हैं|

सूर्यभानु गुप्त